डिस्प्ले में रिज़ॉल्यूशन की तुलना में PPI अधिक महत्वपूर्ण क्यों है?

Read in: English
क्या आपको पता है एक 32 इंच की फुल एचडी टीवी और 65 इंच के 4K टीवी के डिस्प्ले के हर इंच में पिक्सेल की संख्या लगभग बराबर होती है, और यहां तक कि एक 6.5 इंच के फुल एचडी डिस्प्ले वाले स्मार्टफोन में 55 इंच के 4K टीवी की तुलना में 5 गुना ज्यादा पिक्सेल मौजूद होते है। हम बात कर रहे PPI यानी की Pixel Per Unit के बारे में और यह क्यों डिस्प्ले की resolution से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

डिस्प्ले में रिज़ॉल्यूशन क्या होता है?

किसी भी डिस्प्ले में हमें दिखाई देने वाली पिक्चर या फिर वीडियो कई छोटे डॉट यानी की पिक्सेल से मिलकर बनी होती है और डिस्प्ले स्क्रीन में जितने ज्यादा पिक्सेल्स होंगे इमेज या फिर वीडियो हमें उतनी ही क्लियर दिखाई देगी। डिजिटल डिस्प्ले में हमें डिस्प्ले क चौड़ाई और ऊंचाई में कितनी पिक्सल्स है, उसी हिसाब से उसका resolution मापा जाता है।

डिस्प्ले में रिज़ॉल्यूशन
डिस्प्ले में रिज़ॉल्यूशन

यानी कि अगर डिस्प्ले की चौड़ाई मैं 640 और ऊंचाई में 480 पिक्सेल हो तो वह SD क्वालिटी स्क्रीन होगी वही अगर डिस्प्ले की चौड़ाई में 1024 और ऊंचाई 768 पिक्सएल हो तो एचडी क्वालिटी की स्क्रीन होगी और अगर इसकी चौड़ाई में 3840 और ऊंचाई में 2160 पिक्सेल हो तो वह 4K resolution होगा।

क्या सिर्फ ज्यादा रिज़ॉल्यूशन होंने से डिस्प्ले की क्वालिटी अच्छी होती है ?

लेकिन क्या सिर्फ फुल एचडी या 4K resolution होंने से डिस्प्ले की क्वालिटी अच्छी या खराब होती है,तो नही क्योंकि इसमें सबसे बड़ा factor डिस्प्ले की size है। क्योंकि अगर स्क्रीन की size बढ़ती जाएगी लेकिन उसके अंदर पिक्सेल तो उतने ही रहेंगे ,इसी वजह से उसके हर इंच में पिक्सेल की संख्या घटती जाएगी जिसकी वजह से स्क्रीन की पिक्चर क्वालिटी खराब होने लगेगी।

इसी वजह से एक 32 इंच के फुल एचडी टीवी की तुलना में 4K टीवी में 4 गुना ज्यादा पिक्सेल होने की वजह से उसके डिस्प्ले के हर इंच में पिक्सेल की संख्या यानी PPI भी 4 गुना ज्यादा होता है और उसकी पिक्चर क्वालिटी भी 4 गुना ज्यादा अच्छा होगा, लेकिन एक 32 इंच के ही फुल एचडी टीवी तथा 65 इंच के 4K टीवी में साइज की वजह से उनके डिस्प्ले के हर इंच में पिक्सेल यानी PPI लगभग बराबर होगे जिसकी वजह से इन दोनों में पिक्चर क्वालिटी लगभग एक समान होगा।

तो अगर हमें अलग-अलग डिस्प्ले के साइज के हिसाब से जानना हो की कौन सा डिस्प्ले ज्यादा क्लियर दिखेगा, तो हमें उसके लिए डिस्प्ले का पीपीआई यानी डिस्प्ले के हर इंच में कितने पिक्सेल है उसे मालूम करना होगा।

डिस्प्ले की PPI कैसे निकाले ?

वैसे स्मार्टफोन की स्पेसिफिकेशन देखेंगे तो उसमें स्क्रीन पीपीआई दिया रहता है लेकिन अगर आपको स्क्रीन की साइज तथा उसका रेजोल्यूशन पता है तो आप इस तरीके से निकाल सकते हैं।

डिस्प्ले की 'पीपीआई" कैसे ज्ञात करे?
डिस्प्ले की 'पीपीआई" कैसे ज्ञात करे?

अगर हमें स्क्रीन की साइज तथा उसका रेजोल्यूशन पता है तो हम पाइथागोरस प्रमेय के जरिये डिस्प्ले के विकर्ण में पिक्सेल की संख्या को ज्ञात कर सकते है। किसी भी डिस्प्ले की PPI, डिस्प्ले के विकर्ण में पिक्सेल की संख्या में डिस्प्ले की साइज़ से भाग देने पे ज्ञात की सकती है। 

PPI = डिस्प्ले के विकर्ण में पिक्सेल की संख्या / डिस्प्ले के विकर्ण की लम्बाई
या
PPI = डिस्प्ले के डायगोनल लम्बाई में कुल पिक्सेल संख्या / डिस्प्ले की साइज़

तो इसी तरह से एक 32 इंच की फुल HD स्क्रीन जिसका रिज़ॉल्यूशन 1920*1080 है यानी की डिस्प्ले के चौड़ाई में 1920 पिक्सेल तथा उचांई में 1080 पिक्सेल है तो उसके विकर्ण में पिक्सेल की संख्या 2202.9 होगी। अब अगर हमें इस डिस्प्ले की PPI ज्ञात करने के लिए विकर्ण में पिक्सेल की संख्या को डिस्प्ले की साइज़ से भाग देने पे यह 68.84 आएगा (2202.9/32 =68.84)। यही संख्या 68.84 इस 32 इंच की फुल HD स्क्रीन की PPI होगी।

इसी तरह 65 इंच के 4k डिस्प्ले की PPI निकालने पे लगभग 68 ही आता है जोकि 32 इंच के फुल HD डिस्प्ले बराबर ही है।

तो क्या डिस्प्ले का रिज़ॉल्यूशन महत्वपूर्ण नहीं है ?

रिज़ॉल्यूशन डिस्प्ले में पिक्सेल्स संख्या को बताता है और यह महत्वपूर्ण है क्यूंकि अगर हम दो एक ही साइज के डिस्प्ले की तुलना करेंगे तो सबसे पहले डिस्प्ले के रिज़ॉल्यूशन को ही देखते है। लेकिन अगर हम अलग अलग डिस्प्ले साइज की तुलना करेंगे तो उसमे हमेसा PPI को ही ध्यान देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here